शरद पूर्णिमा की रात अमृत वर्षा की रात

शरद पूर्णिमा की रात अमृत वर्षा की रात

शरद पूर्णिमा की रात अमृत वर्षा की रात

वर्ष २०१८ में शरद पूर्णिमा 23 अक्टूबर की रात 10:37 से शुरू होकर 24 अक्‍टूबर की रात 10:14 तक रहेगी। शरद पूर्णिमा को  हिन्‍दू धर्म में विशेष महत्‍व दिया गया है। इस दिन उपवास रख कर विधि-विधान से लक्ष्मीनारायण का पूजन किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन उपवास रखने से मनुष्यो के सभी दुःख दूर होते है तथा सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। धार्मिक मान्यता है कि शरद पूर्णिमा वाली रात आसमान से अमृत बरसता है। इस दिन चंद्रमा की किरणों के प्रकाश मैं औषधिय गुण मौजूद रहते हैं जिनमें कई असाध्‍य रोगों को दूर करने की शक्ति होती है.इसलिए सदियों से शरद पूर्णिमा वाली रात्रि को चंद्रमा की किरणों के प्रकाश में खीर रखने की प्रथा चली आ रही है। मान्यता है कि इस खीर को खाने से सभी रोगों से मुक्ति मिल जाती है।

अगर आपकी जन्म पत्रिका में चंद्रमा किसी भी प्रकार से दूषित है या फिर कमजोर स्थिति अथवा नीच स्तिथि में है, तो चंद्र ग्रह को प्रसन्न करने के लिए तथा चंद्र ग्रह से सम्बंधित उपाय करने के लिए यह दिन सबसे उपयुक्त और शुभ है। इस दिन आप शिवलिंग पर दूध जल चढ़ा कर , मोती रत्न को शुद्ध करके पहन कर , तथा सफेद वस्तुआें का दान करके  चंद्र ग्रह से सम्बंधित शुभ फलों मैं वृद्धि कर सकते है।

No Comments Yet.

Leave a comment